हरियाणा की सब्ज़ी की Supply रोकने की धमकी पर दिल्ली सरकार की नाराज़गी

0

नई दिल्ली (शेफाली शर्मा): हरियाणा (Haryana) की खट्टर सरकार (Khattar Government) ने कड़ा रूख़ अपनाते हुए हरियाणा से दिल्ली जाने वाली साग-सब़्जियों की आपूर्ति पर पाबंदी लगाने का फैसला लिया है। हरियाणा सरकार में गृहमंत्री अनिल विज (Anil Vij) ने प्रशासन को सख़्त निर्देश देते हुए सिंधू बार्डर पर सख़्ती बढ़ाने का फरमान जारी कर दिया है। हरियाणा पुलिस का आदेश दिये गये है कि, अगर कोई हरियाणा की सीमा से दिल्ली सब़्जियां ले जाते हुए पाया जाता है तो उस पर प्रशासनिक कार्रवाई की जाये। इसके साथ ही गृहमंत्री अनिल विज ने केजरीवाल (Kejriwal) से गुहार लगायी कि, दिल्ली के लोगों का लॉकडाउन पास (lockdown pass) बनाना तत्काल प्रभाव से बंद कर दे।

गृहमंत्री अनिल विज के इस फरमान से सब़्जी उगाने वाले किसानों, माल ढुलाई में लगे ट्रांसपोर्टरों और लोडिंग-अनलोडिंग करने वाले मजदूरों में खलबली का माहौल देख गया। सभी को अब रोज़ी-रोटी की चिंता सताने लगी है। हरियाणा सरकार के इस फैसले का असर दिल्ली की केशोपुर मंडी, आज़ादपुर मंड़ी, गाज़ीपुर मंड़ी और ओखला मंड़ी में देखने को मिलेगा, जहां सब़्जियों का आवाक् में भारी गिरावट दर्ज की गयी। आपूर्ति प्रभावित होने के चलते मंड़ियों के ज़्यादातर आढ़ती खाली दिखे।

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने कहा कि- हरियाणा सरकार का रवैया हैरानी भरा है। बढ़ रहे वायरस इंफेक्शन के बीच मिलजुल काम करना चाहिए। ऐसे में हरियाणा सप्लाई चेन को प्रभावित कर रहा है। अगर दिल्ली पर इसका बड़ा असर होता है तो दिल्ली में भी कई ऐसी चीज़े है, जिनकी जरूरत हरियाणा को रोज होती है। उनकी आपूर्ति पर पाबंदी लगाने का विकल्प हमारे लिए खुल हुआ है।

गौरतलब है कि दिल्ली में बढ़ते कोविड-19 का असर तेजी से हरियाणा की तरफ बढ़ रहा है। हरियाणा में दिल्ली से आवाजाही के कारण हरियाणा पर भी कोरोना का ख़तरा बढ़ने की आशंका को देखते हुए हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज (Anil vij) ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) को साफ तौर पर अपील करते हुए कहा कि दिल्ली में रह रहे लोगों को किसी भी शर्त पर पास लेकर हरियाणा की तरफ ना बढ़ने दे और उनके रहने का इंतजाम दिल्ली में ही करें। हालांकि अभी देखना ये है कि दिल्ली सरकार इसके लिए क्या कदम उठाएगी?

Leave A Reply

Your email address will not be published.