Kangana Ranaut vs. BMC: देखे कंगना के टूटे ऑफिस की तस्वीरें

जिन तीखे अन्दाज़ों की वज़ह से कंगना रनोट (Kangana Ranaut) को बॉलीवुड में जाना जाता है। उन्हीं अन्दाज़ों के साथ आज

न्यूज़ डेस्क (यामिनी गजपति): जिन तीखे अन्दाज़ों की वज़ह से कंगना रनोट (Kangana Ranaut) को बॉलीवुड में जाना जाता है। उन्हीं अन्दाज़ों के साथ आज उनकी मुंबई में वापसी हो चुकी है। कंगना के मुंबई पहुँचने से पहले ही एयरपोर्ट की सुरक्षा को चाक-चौबंद कर दिया गया। एयरपोर्ट पर उनके विरोधियों और समर्थकों (Crowd of Kangana’s opponents and supporters at the airport) का हुजूम भी देखा गया। जिसके मद्देनज़र महाराष्ट्र पुलिस और सीआईएसएफ को सुरक्षा के अतिरिक्त बंदोबस्त करने पड़े। मीडिया के कैमरों ने कंगना को सीआरपीएफ के Y-कैटिगरी सुरक्षा घेरे (CRPF’s Y-category security Cover) में कैद किया। उनके साथ उनका बहन रंगोली चंदेल और पर्सनल अस्सिटेंस को भी स्पॉट किया गया।

हाल ही में बृहन्मुंबई नगर निगम (Brihanmumbai Municipal Corporation- BMC) बांद्रा वेस्ट के पाली हिल रोड पर बने कंगना के ऑफिस को तोड़ने के लिए पहुँचा था। बीएमसी के मुताबिक उनके कार्यालय मर्णिकर्णिका प्रोडक्शंस (Office Manikarnika Productions) के ग्राउन्ड और फर्स्ट फ्लोर पर अवैध निर्माण की बात सामने आयी थी। बॉम्बे हाई कोर्ट में कंगना की ओर से रिजवान सिद्दीकी ने तोड़फोड़ रोकने की कानूनी अर्जी लगायी थी। जिसके बाद जस्टिस एस. कथावाला के स्टे ऑर्डर से तोड़फोड़ पर रोक (Demolition stopped by stay order of Justice S Kathavala) लगा दी गयी है। जिससे कंगना को कुछ फौरी राहत मिलती दिखी। लॉकडाउन के दौरान कंगना अपने परिवार के साथ मनाली में वक्त गुजार रही थी। साथ ही वहीं से सुशांत सिंह मामले पर ट्विट और बेबाक राय भी ज़ाहिर कर रही थी। इस दौरान शिवसेना की अगुवाई वाली महाराष्ट्र सरकार पर उन्होनें काफी तीखी बातें और ट्विट्स किये थे। बीएमसी की मौजूदा कार्रवाई को उसी से जोड़कर देखा जा रहा है।

हाल ही के दिनों में कंगना और शिवसेना के बीच ज़ुबानी हमलों में तेजी देखी गयी। मुंबई पहुंचते ही #DeathOfDemocracy का इस्तेमाल करते हुए कंगना ने टूटे हुए ऑफिस की वीडियों फैंस के साथ साझा करते हुए अपनी बात सामने रखी। शिवसेना पर निशाना साधते हुए कंगना ने ट्विट कर लिखा कि- तुमने जो किया अच्छा किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More