Unlock 3.0 होगा अगस्त से लागू, Restaurant, Pub, Gym और Cinema Hall को मिलेगी छूट?

न्यूज़ डेस्क (दिगान्त बरूआ): अर्थव्यवस्था को पटरी लाने के साथ रफ्तार देने के लिए केन्द्र सहित राज्य सरकारें कोरोना (Corona) के बढ़ते मामलों के बीच कारोबारी और दैनिक गतिविधियों में छूट दे रही है। जून महीने के दौरान लॉकडाउन (lockdown) में छूट देते हुए अनलॉक-1 (unlock 1.0) के नियम लागू किये गये। जुलाई महीने की शुरूआत होते ही अनलॉक-2 (unlock 2.0) के साथ पाबंदियों में ढ़ील दी गयी और छूट के दायरे को ज़्यादा बढ़ाया गया। जिसके तहत नाइट कर्फ्यू की समय-सीमा घटाने के साथ आम जनता को इंटर स्टेट परिवहन की सुविधा दी गयी। जल्द ही जुलाई का महीना खत्म होने के कगार पर है। ऐसे में आम जनता की दिलचस्पी ये जानने में है कि, अगस्त महीने की शुरूआत के साथ सरकार अनलॉक 3.0 (unlock 3.0) में किन पांबदियों में छूट देने जा रही है।

छूट के उम्मीद रेस्त्रां (Restaurant), पब (Pub) संचालक, सिनेमा हॉल (Cinema Hall) और जिम (Gym) के मालिक लगाये बैठे है। कयास लगाये जा रहे है कि सीमित क्षमता के साथ सिनेमा हॉल और जिम खोलने की अनुमति सरकार दे सकती है। सूत्रों के मुताबिक अनलॉक 3.0 के दौरान स्कूल (School), कॉलेज (College), ट्यूशन सेन्टर्स (Tution Centre), विश्वविद्यालयों (Universities) और मेट्रो (Metro) ट्रेन सेवाओं को बंद ही रखा जाएगा। गृहमंत्रालय और सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के बीच सिनेमा हॉल और मल्टीप्लेक्स खोलने को लेकर बातचीत चल रही है। हाल ही में सिनेमा संचालकों के एक प्रतिनिधिमंडल ने सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से सिनेमा हॉल्स (Cinema Halls) और मल्टीप्लेक्स दुबारा शुरू करवाने की बात कही थी। इस दौरान प्रतिनिधिमंडल ने मंत्रालय से 50 फीसदी क्षमता के साथ सिनेमा चलाने का प्रस्ताव रखा। सूचना प्रसारण मंत्रालय ने सोशल डिस्टेंसिंग के गाइडलाइंस पालन सहित 25 फीसदी सीटिंग कैपेसिटी के साथ सिनेमा दुबारा शुरू करने पर विचार कर रहा है।

गौरतलब है कि अनलॉक-3.0 के दौरान जिम के संचालन पर लगी रोक हटायी जा सकती है। इस विषय पर फैसला राज्य के सीएम मुख्य सचिव की सलाह पर कर सकते है। साथ ही शॉपिंग मॉल्स भी पूरी तरह से खुल सकते है। अगस्त महीने के दौरान मेट्रो ट्रेन और स्कूलों का खुलना लगभग मुश्किल ही माना जा रहा है। इस मसले पर मानव संसाधन मंत्रालय उच्चस्तरीय बैठक कर चुका है। मानव संसाधन मंत्री खुद इस बात की पैरवी कर चुके है कि, जब अभिभावक आश्वास्त नहीं हो जाते, तब शैक्षणिक संस्थानों को दुबारा चालू नहीं किया जायेगा। अभिभावकों की रायशुमारी पर ही आगे फैसले लिये जा सकते है। ज़्यादातर अभिभावक अभी बच्चों को स्कूल और कॉलेज भेजने के लिए तैयार नहीं है।

दूसरी ओर कोरोना का प्रकोप देश के कई इलाकों में फैलता दिख रहा है। पिछले 24 घंटों के दौरान संक्रमण 13.85 लाख केसों के साथ 48 हज़ार नये मामलों का खुलासा हुआ है। इनमें 4.6 लाख एक्टिव और 8.8 लाख इंफेक्शन से जुड़े रिकवर मामले है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More