Trump Administration ने दी अमेरिकी नागरिकों को नसीहत, पाकिस्तान ना जाये वहाँ होते है बड़े…

हाल ही में Trump Administration ने अपने नागरिकों को खास हिदायत जारी की है। यहां मामला पाकिस्तान और अमेरिकी

नई दिल्ली (विश्वरूप प्रियदर्शी): हाल ही में Trump Administration ने अपने नागरिकों को खास हिदायत जारी की है। यहां मामला पाकिस्तान और अमेरिकी पर्यटकों से जुड़ा हुआ है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय (US State Department) द्वारा हाल ही में जारी एडवायजरी में कहा गया है कि, अमेरिकी नागरिक पाकिस्तान का रूख़ ना करे वहाँ बड़े आंतकी हमले होते है। साथ ही अमेरिकी एजेंसी सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन की अनुशंसा पर जारी ट्रैवल एडवायजरी (Travel advisory issued on the recommendation of the Center for Disease Control and Prevention) में कहा गया है कि, कोरोना महामारी के चलते अन्तर्राष्ट्रीय सीमायें सील होने के साथ, हवाई यातायात और सड़क परिवहन की सुविधा बंद है। ऐसे में अगर कोई अमेरिकी पाकिस्तान में फंसता है तो अपहरण या उसके आंतकी वारदात होने की पूरी संभावना (Absolute possibility of kidnapping or terrorist attack) है।

इसके साथ ही अमेरिकी नागरिकों को बलूचिस्तान, दक्षिणी वाजिरिस्तान और खैबर पख्तूनख्वा (Balochistan, South Waziristan and Khyber Pakhtunkhwa) जैसे इलाकों से दूर रहने को कहा गया है। ट्रम्प प्रशासन के मुताबिक इन इलाकों में आंतकवाद घटना, फिरौती और अपहरण होने की पूरी संभावना है। साथ ही यहाँ के सीमाई इलाकों में कई कट्टरपंथी इस्लामिक गुटों का खतरा (threat of radical Islamic groups) है, जो अमेरिकी लोगों के लिए परेशानी का सब़ब बन सकता है। व्हाइट हाउस की ओर से ये भी ऐलान किया गया है कि, पाकिस्तान में दहशतगर्द तंजीमें लगातार बेगुनाहों को शिकार बनती रही है। पूरे देश में कट्टरपंथी इस्लामिक आंतकवाद का असर काफी समय से रहा है। इसलिए इनका प्रभाव वहाँ के पुलिस-प्रशासन, सेना, और सरकार से कहीं ज्यादा है। ऐसे में पाकिस्तान में आम अमेरिकी लोगों को निशाना बनाना काफी आसान है।

अन्तर्राष्ट्रीय परिदृश्यों का आकलन करते हुए वाशिंगटन हिंसा और तनावग्रस्त देशों को लेकर तयशुदा वक्त पर अमेरिकी नागरिकों के लिए ट्रैवल एडवायजरी जारी करता रहता है। चीन से बढ़ती नज़दीकियों और आंतकवादी समूहों के कारण मौजूदा हालातों में वाशिंगटन और इस्लामाबाद (Washington and Islamabad) के बीच तालुक्कातों में खटास आयी है। अमेरिका किसी भी कीमत पर अपने नागरिकों को सक्रिय आंतकी संगठनों का निशाना नहीं बनने देना चाहता है। एहतियातन ये कदम उठाया गया है। हाल ही में ट्रम्प प्रशासन ने आंतकवाद के अलावा कोरोना वायरस को मद्देनज़र भी ट्रैवल एडवायजरी (Travel advisory) जारी की थी।

वाशिंगटन का मौजूदा रवैया कहीं ना कहीं दिखाता है कि, अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान छवि क्या है। जारी की गयी ये ट्रैवल एडवायजरी भले ही अमेरिकी नागरिकों की सुरक्षा के लिहाज से अहम हो। लेकिन ये पाकिस्तान के लिए भी कहीं ना कहीं कड़ा संदेश है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More