PM Modi in Video Conference: 10 राज्य कोरोना को मात दे पाये तो, देश महामारी से उबर जायेगा

0

नई दिल्ली (समरजीत अधिकारी): कोरोना महामारी से जूझ रहे टॉप-10 राज्यों के मुख्यमंत्रियों से आज PM Modi ने Video Conference के माध्यम से विचार-विमर्श किया। इस बैठक में सीएम बिहार नीतीश कुमार, तेलंगाना के सीएम चंद्रशेखर राव (CM of Telangana Chandrasekhar Rao), गुजरात सीएम विजय रूपानी, पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ, तमिलनाडु के सीएम के पलानीस्वामी, पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह और महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने शिरकत की। देशभर में फैले कोरोना के सभी मामलों का तकरीबन 80 फीसदी हिस्सा इन्हीं 10 राज्यों से दर्ज किया गया है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) ने भी इस बैठक में हिस्सा लिया।

अस्पतालों और संसाधनों पर बढ़ते दबाव (Increasing pressure on resources) पर पीएम ने अपनी बात रखते हुए कहा-आप सभी से बात करके जमीनी वस्तु-स्थिति की भी जानकारी और व्यापक होती है, और ये भी पता चलता है कि हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। ये लगातार मिलना, चर्चा करना जरूरी भी है, क्योंकि जैसे जैसे कोरोना महामारी (Corona epidemic) को समय बीत रहा है, नई-नई परिस्थितियाँ भी पैदा हो रही हैं। अस्पतालों पर दबाव, हमारे स्वास्थ्य कर्मियों पर दबाव, रोजमर्रा के काम में निरंतरता का ना आ पाना ये हर दिन एक नई चुनौती लेकर आते हैं।

इस दौरान पीएम मोदी ने दसों राज्यों की भूमिका (Role of ten states) पर खासतौर से अपनी बात और कहा- सभी दस राज्य एक साथ बैठकर समीक्षा करें, चर्चा करें! और आज की इस चर्चा से हमें एक दूसरे के अनुभवों से काफी कुछ सीखने समझने को मिला भी है। कहीं न कहीं ये एक भाव आज निकलकर आया है कि अगर हम मिलकर अपने इन दस राज्यों में कोरोना को हरा देते हैं, तो देश भी जीत जाएगा! साथियों, टेस्टिंग की संख्या बढ़कर हर दिन 7 लाख तक पहुँच चुकी है, और लगातार बढ़ भी रही है। इससे संक्रमण को पहचानने और रोकने में जो मदद मिल रही है, आज हम देख रहे हैं। हमारे यहाँ औसत मृत्युदर (Average death rate) पहले भी दुनिया के मुक़ाबले काफी कम था, संतोष की बात है कि ये लगातार और कम हो रहा है।

कुछ चुनिंदा राज्यों में कोरोना टेस्टिंग बढ़ाने की जरूरतों पर प्रधानमंत्री जोर देते हुए कहा- इंफेक्शन के सक्रिय मामलों (Active cases of infection) का प्रतिशत कम हुआ है, संक्रमण से ठीक होने की दर बढ़ी है, तो इसका अर्थ है कि हमारे प्रयास कारगर सिद्ध हो रहे हैं! सबसे अहम बात है, कि इससे लोगों के बीच भी एक भरोसा बढ़ा है, आत्मविश्वास बढ़ा है, और डर भी कुछ कम हुआ है। जिन राज्यों में टेस्टिंग दर कम है, और जहां वायरस सक्रियता की दर (Virus activation rate) ज्यादा है, वहाँ टेस्टिंग बढ़ाने की जरूरत सामने आई है! खासतौर पर, बिहार, गुजरात, यूपी, पश्चिम बंगाल और तेलंगाना, यहाँ टेस्टिंग बढ़ाने पर खास बल देने की बात इस समीक्षा में निकली है।

पीएम मोदी ने होम क्वारंटीन और आरोग्य सेतु ऐप के कारगर इस्तेमाल (Effective use of Home Quarantine and Arogya Setu App) से मुख्यमंत्रियों को अवगत कराते हुए कहा-अब तक का हमारा अनुभव है कि कोरोना के खिलाफ containment, contact tracing और सर्विलांस, ये सबसे कारगर हथियार है। अब आम लोग भी इस बात को समझ रहे है, जनता सहयोग कर रही हैं। ये जागरूकता की हमारी कोशिशों के बेहतरीन नतीज़ों की तरह है। होम क्वारंटीन की व्यवस्था (Quarantine arrangement) इसी वजह से आज इतने अच्छे तरीके से लागू की जा पा रही है। विशेषज्ञ अब ये कह रहे हैं कि अगर हम शुरुआती 72 घंटों में ही वायरस संक्रमण की पहचान कर लें, तो ये संक्रमण काफी हद तक धीमा हो जाता है। आज टेस्टिंग नेटवर्क के अलावा आरोग्य सेतु ऐप भी हमारे पास है। आरोग्य सेतु की मदद से हम ये काम आसानी से कर सकते हैं।

राज्य सरकारों से मिल रहे आंकड़ों पर भी प्रधानमंत्री मोदी अपनी बात रखी और कहा- आज इन प्रयासों के परिणाम हम देख रहे हैं! Hospitals में बेहतर management, आईसीयू बेड्स की संख्या बढ़ाने जैसे प्रयासों ने भी काफी मदद की है! साथियों, सबसे ज्यादा प्रभावी आपका अनुभव है। आपके राज्यों में जमीनी हकीकत की निरंतर निगरानी करके जो नतीजे पाए गए सफलता का रास्ता उसी से बन रहा है! मुझे विश्वास है कि आपके इस अनुभव की ताकत से देश ये लड़ाई पूरी तरह से जीतेगा, और एक नई शुरुआत होगी। दूसरी ओर परिवार कल्याण एवं स्वास्थ्य मंत्रालय (Ministry of Family Welfare and Health) की ओर से जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक- देशभर में अब तक कोरोना से संक्रमित लोगों की तादाद 22,68,676 और इंफेक्शन से मारने वाले की संख्या 45,257 हो गयी है। पिछले चौबीस घंटों के दौरान इंफेक्शन के 53,601 नए मामले दर्ज किये गये है। इस दौरान 871 लोगों की मौत संक्रमण के चलते हुई। अब तक 15,83,490 लोग इंफेक्शन को मात देकर स्वस्थ हो चुके है। 6,39,929 एक्टिव केस है। रिकवरी रेट बढ़कर 69 प्रतिशत हो गया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More