शराब की दुकानें खुलने से मची अफरातफरी, जानिए CM Yogi Adityanath के गढ़ का हाल

0

नई दिल्ली (प्रगति चौरसिया): कोरोना वायरस (Corona virus) के बढ़ते प्रकोप के कारण जिस तरह केंद्र सरकार ने देशव्यापी लॉकडाउन (Nationwide lockdown) का फैसला लिया उसकी सराहना विश्व के कई देशों ने की। जाहिर है इस कदम से महामारी के प्रसार को रोकने में काफी हद कामयाबी भी मिली। लेकिन अभी संकट टला नहीं है। इन सब के बीच सरकार का लॉकडाउन के बीच ग्रीन और ऑरेंज जोन (Orange zone) में शराब की दुकानें खोलने का फैसला चिंता का सबब़ बन गया। देशभर में शराब की दुकानों के खुलने से मदिरा प्रेमियों (Wine lovers) की ललक साफ देखने को मिली। सड़कों पर इकट्ठा हुजूम ने सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) की सूझबूझ को तार-तार कर दिया। ज़्यादातर इलाकों में दुकान खुलने से पहले ही लोग इंतजार में टकटकी लगाए  बैठे रहें। दूसरी ओर कई जगहों पर भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस को लाठियां भांजनी पड़ी। देशभर में शराब की दुकानों के खुलने से सड़कों पर हुई अफरातफरी ने प्रशासन के माथे पर चिंता की लकीरें खींच दी। बहरहाल केंद्र ने तो कुछ दिशानिर्देशों (Guidelines) के तहत ये फैसला ले लिया है। अब राज्य सरकारों के सामने इसको सुचारू ढंग से अमल करने की अहम जिम्मेदारी है। कई राज्यों में हालात दूभर रहे तो कुछ जगह ऐसी भी थी जहां सोशल डिस्टेंसिंग के तहत लोग खरीदारी करते दिखे।

ऐसे में आइए जानते है यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के गढ़ गोरखपुर का हाल।

सख्त आदेश के बाद भी बाकी थी आस

गोरखपुर (Gorakhpur) में शराब की दुकानें खुलने को लेकर अटकलें लगाई जा रही थी। जिलाधिकारी विजेन्द्र पांडियन (District Magistrate Vijendra Pandian) द्वारा लॉकडाउन को लेकर दिशानिर्देश जारी किये गये। जिसमें शराब की दुकानें बन्द रखने का दावा किया गया था। लेकिन ऑरेंज जोन में होने के बाबत लोगों में उम्मीद की लहर थी। दूसरे ही दिन सोमवार को आधिकारिक (Official) तौर पर नोटिस आने के बाद शराब की दुकानों को खोलने का आदेश मिल गया। इस तरह जिले के कई इलाकों में लोग शराब खरीदने की फिराक में घरों से बाहर निकल आए। बता दें कि लॉकडाउन के दौरान अवैध रूप से शराब की बिक्री होने के कारण आबकारी विभाग (Excise Department) ने इन दुकानों को सील कर दिया था। लेकिन जिलाधिकारी के आदेश पर सुबह 10 बजे से दुकानें खुल गई। जिले में कुल 513 दुकानें है जिनमें 12 मॉडल शाप, 279 देशी शराब की दुकानें, 115 अंग्रेजी शराब और 107 बियर की दुकानें मौजूद हैं। कई दुकानों में दमदार बिक्री के कारण दोपहर तक स्टॉक भी खत्म हो गया। 

निर्देशों के पालन में कमी

केंद्र के निर्देश अनुसार दुकानों पर सैनिटाइजर (Sanitizer) होना आवश्यक है। हालांकि कई दुकानों ने इसका पालन किया। साथ ही एक दुकान पर पांच से अधिक लोग न खड़े हो इसकी सख्त हिदायत (Strict instruction) दी गई थी। कोरोना संक्रमण (Corona infection) से बचने के लिए दुकानों के बाहर 6 फीट की दूरी पर गोले बनाने का आदेश भी मिला था पर इसे नकारते हुए एक फीट पर गोले बनाए गए। अमूमन शराब खरीदने की होड़ में ये सभी आदेश ठंडे बस्ते में दिखें।

आबकारी विभाग का सख्त रवैया

कई जगहों से शराब व्यापारियों (Wine merchants) द्वारा अधिक दाम वसूलने की शिकायत भी मिली। यूपी-बिहार समेत शहर की कुछ दुकानों से मिल रही शिकायत के मद्देनजर आबकारी विभाग तुरंत जांच के लिए मौके पर मौजूद रहा। आबकारी अधिकारियों का कहना है कि शराब की दुकानें रोज़ाना सुबह 10 बजे से शाम सात बजे तक खुली रहेंगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More