#ModiSpeechEffect: एक ही दिन में सैकड़ों बच्चों की माँ बन गई ये वृद्धा

पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी और भारतीय सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के 24 घंटे बाद, पीएम मोदी ने देश के नाम

न्यूज़ डेस्क (शौर्य यादव): पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) की गलवान घाटी में चीनी और भारतीय सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के 24 घंटे बाद, पीएम मोदी ने देश के नाम लाइव संबोधन जारी किया। इस दौरान उन्होनें लोगों से खड़े होकर दो मिनट का मौन रखने के साथ शहीदों को श्रद्धाजंलि देने की भी अपील की। इसी दौरान एक ट्विटर यूजर प्रेरणा (@theprernaa) ने ट्विट कर लिखा कि, मेरी माँ की तबीयत बहुत खराब है। इन दिनों वो ठीक से खड़ी भी नहीं हो पा रही है। बावजूद इसके उन्होनें पीएम मोदी की अपील पर खड़े होकर शहीद अमर जवानों को श्रद्धाजंलि दी। उनके इस कदम ने मुझे काफी भावुक कर दिया है। यूजर प्रेरणा ने अपनी ट्विटर पोस्ट पर एक बीमार और कमजोर महिला का फोटो साझा की। जो कि संभवत: गलवान घाटी (Galwan Valley) के शहीदों को नमन कर रही है।

कुछ ही घंटों के भीतर बहुत से ट्विटर यूजर्स ने प्रेरणा के टैक्सट और फोटो को कॉपी करते हुए साझा किया। और कथित ट्विटर यूजर्स (Alleged Twitter users) ने ऐसा दिखाने की कोशिश की, जैसे कि खुद उनकी बीमार और कमजोर माँ पीएम मोदी की अपील पर खड़े होकर शहीद ज़वानों को श्रद्धाजंलि दे रही हो।

देखते ही देखते ट्विटर पर एकाएक प्रेरणा की माँ के कई बेटे-बेटियां सामने आ गये। इस दौरान सभी यूजर्स की माँ और ट्विट का टैक्सट एक जैसा नज़र आने लगा। भाजपा का आईटी सेल (BJP’s IT Cell) इसे साइबर सेंधमारी के तौर पर देख रहा है।

एक ही जैसे ट्विट भारी संख्या में सामने आने पर फैक्ट-चेकिंग वेबसाइट ऑल्ट न्यूज़ (Fact-checking website Alt News) के संस्थापक प्रतीक सिन्हा (Prateek Sinha) ने कहा- आमतौर पर हम पीएम मोदी और उनकी नीतियों की तारीफ करते हैं। ये कवायद सत्तारूढ़ पार्टी की खास पहचान है। प्रतीक सिन्हा आईटी सेल डॉक्यूमेंट्स (IT Cell Documents) को संपादित करने के लिए खासतौर पर जाने जाते है। जिससे जुड़े ट्विट उनके साथी अक्सर जारी करते रहते है।

प्रतीक सिन्हा ट्विट कर लिखते है कि- जब मोदी सरकार का कैबिनेट मंत्री (Modi government’s cabinet minister) ट्विट करता है तो ये होता है, मिडिल क्लास के लिए काम करना, हमारे एजेंडे की प्राथमिकता सूची में नहीं है।

ठीक इसी तरह की हरकत दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) की छपाक की रिलीजिंग के दौरान की गयी थी। उस दौरान दीपिका जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (Jawaharlal Nehru University) में धरने पर बैठी छात्रसंघ अध्यक्ष आइशी घोष (Student union president Aashi Ghosh) से मिलने गयी थी। आइशी घोष के साथ मौन समर्थन जताते हुए, वे विश्वविद्यालय परिसर में हुई मारपीट के विरोध में खड़ी दिखाई दी। दीपिका का विरोध करने के लिए कई ट्विटर यूजर्स ने उनकी फिल्म छपाक के कैन्सिल टिकट (Cancel ticket) ट्विटर पर साझा करना शुरू कर दिया। जिन-जिन लोगों ने टिकट कैन्सिल करने की पोस्ट ट्विटर पर साझा की थी। सभी का टैक्सट भले ही अलग था, पर सभी की कैन्सिल टिकट एक ही थी।

आखिर में हार मानकर यूजर प्रेरणा को ट्विटर पर अपनी माँ के साथ खिंची कुछ पुरानी फोटो साझा करनी पड़ी। जिससे ये साबित हो सके कि, वो ही उनकी असली माँ है।

अपने अगले ट्विट पर प्रेरणा ने लिखा कि, ना जाने लोगों को क्या हो गया है। मेरी माँ की तस्वीरों का मज़ाक बनाया जा रहा है। लेकिन माँ तो माँ होती है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More