Kanpur Encounter: दहला पूरा कानपुर हुई बड़ी वारदात, CM Yogi Adiyanath ने कही ये बड़ी बात

0

न्यूज़ डेस्क (शौर्य यादव): कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरू गांव में बड़ी आपराधिक वारदात (Major criminal act) हुई, जिसमें यूपी पुलिस के 8 ज़वान शहीद हो गये। घटना से पूरे जिले में सकते का माहौल है। गौरतलब है कि पुलिस की टीम इलाके में घोषित अपराधी विकास दुबे (Declared criminal Vikas Dubey) के गिरफ्तारी के लिए दबिश देने गयी थी। जिसके बाद आमने-सामने की मुठभेड़ में ये बड़ी वारदात हो गयी। दबिश देने गयी पुलिस टीम (Police team) में सर्किल ऑफिसर देवेंद्र मिश्र, उप निरीक्षक अनूप कुमार सिंह, उप निरीक्षक नेबू लाल, आरक्षी सुल्तान सिंह, सिपाही बबलू , एसओ महेश यादव, सिपाही जितेंद्र कुमार, सिपाही राहुल कुमार शामिल थे। मामले पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने ट्विट कर शहीद पुलिस कर्मियों को श्रद्धाजंलि दी।

यूपी पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, पुलिस टीम ने मिली सूचना के आधार पर इलाके और घर की नाकेबंदी कर दी। इस दौरान काफी शतिराना अन्दाज़ में बदमाशों ने जेसीबी (JCB) की मदद लेकर पुलिस टीम का रास्ता रोकने की कोशिश की। जैसे ही पुलिस टीम ने दरवाज़ा तोड़कर बदमाशों को पकड़ने की कोशिश की तो, बदमाशों ने पुलिस टीम पर फायर खोल दिया। इससे पहले पुलिस टीम संभल पाती तब तक कई ज़वानों को गोली लगने से गंभीर चोटें आ गयी। सभी बदमाश मौका देखकर भाग निकले। बदमाश अपने साथ पुलिस के हथियार भी लूटकर ले गये। सूचना मिलते ही कई थानों की पुलिस मौके पर पहुँच गयी। एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार (ADG Law and Order Prashant Kumar) ने मौके पर पहुँचकर घटनास्थल का जायजा लिया।

मौके की गंभीरता को देखते हुए कानपुर में तैनात फॉरेसिंक टीम बैलेस्टिक जांच पड़ताल (Ballistic investigation) कर रही है। इसके साथ ही लखनऊ से विशेषज्ञ टीम को भी मुआयने के लिए रवाना कर दिया गया है। पुलिस की साइबर विंग (Cyber Wing of UP Police) ने अपराधी को लोकेशन को इलैक्ट्रॉनिक सर्विलांस (Electronic surveillance) पर डाल दिया है।

गौरतलब है कि विकास दुबे प्रदेश में 25,000 रूपये का इनामी बदमाश है। इसके साथ ही वो पूर्व प्रधान व जिला पंचायत सदस्य भी रह चुका है। उसका नाम 60 आपराधिक मामलों में दर्ज है। जिनमें से 53 हत्या की कोशिशों से जुड़े हुए है। हत्या, ज़बरन वसूली, डकैती (Murder, extortion, robbery,) ज़मीन पर कब़्जा पर मामलों में भी विकास दुबे पर प्राथमिकी दर्ज है। साल 2001 के दौरान बदमाश विकास दुबे ने थाने में घुसकर यूपी सरकार द्वारा राज्यमंत्री का दर्जा हासिल किये, शख़्स को गोली मार चुका है। जिससे कि इलाके की राजनीति में उसका दबदबा बना रह सके।  

पूरे पूर्वांचल में विकास दुबे की अपराधिक साज़िश के तार फैले हुए है। इलाहाबाद, गोरखपुर, आज़मगढ़, फैजाबाद औऱ अम्बेडकर नगर (Allahabad, Gorakhpur, Azamgarh, Faizabad and Ambedkar Nagar) के कई कारोबारियों से बदमाश तयशुदा प्रोटेक्शन मनी वसूला करता था। मामले में विकास दुबे के खिल़ाफ आईपीसी धारा 307 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) मामले पर काफी करीब से नज़रे बनाये हुए है। आईजी और एडीजी (कानून और प्रशासन) कार्रवाई की मॉनिटरिंग खुद कर रहे है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More