Rajasthan में कांग्रेस ने जीता विश्वास मत, CM Ashok Gehlot ने भाजपा को बिल्ली बताया

0

न्यूज़ डेस्क (समरजीत अधिकारी): लंबी चली सियासी रस्साकशीं के बाद CM Ashok Gehlot और Sachin Pilot एकसाथ आज Rajasthan विधानसभा दिखाई दिए। ये कहीं ना कहीं कांग्रेस की बेहतरीन रणनीति (Congress’s best strategy) का हिस्सा है। नाजुक सियासी घमासान के बावजूद कांग्रेस का केंद्रीय नेतृत्व राजस्थान में सरकार बचाने में पूरी तरह कामयाब रहा। विश्वासमत प्रस्ताव पर चर्चा (Discussion on motion of no confidence) के दौरान CM Ashok Gehlot ने भी भाजपा को जमकर घेरा। उन्होनें कहा- देश में लोकतंत्र खतरे में हैं। भाजपा राजस्थान में अरूणाचल प्रदेश, कर्नाटक, मणिपुर और मध्य प्रदेश के तर्ज पर सरकार गिराने की कवायद में लगी हुई थी। (भाजपा विधायकों की ओर इशारा करते हुए) 100 चूहे खाकर बिल्ली चली हज को, यह हालत हो गई आपकी पार्टी की।

केन्द्र सरकार पर निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री गहलोत (Chief Minister Ashok Gehlot) ने कहा- क्या देश में ईडी, सीबीआई और आयकर विभाग (ED, CBI and Income Tax Department) जैसी केन्द्रीय एजेंसियों का गलत इस्तेमाल नहीं हो रहा है? जब आप टेलीफोन पर बातचीत करते हैं, तो आप दूसरे व्यक्ति से फेसबुक और व्हाट्सएप पर जुड़ने के लिए नहीं कहते हैं। क्या लोकतंत्र में यह अच्छी बात है।

चर्चा के दौरान अशोक गहलोत लगातार भाजपा पर हमलावर बने रहे उन्होनें कहा- नेता प्रतिपक्ष (opposition leader) का नया चेहरा देखने को मिला रहा है। बीजेपी (BJP) ने तय कर रखा है कि, राजस्थान की सरकार गिरा के रहेगी लेकिन मैं ये होने नहीं दूंगा। कांग्रेस का इतिहास पढ़ो तो आपकी आंखें खुल जाएगी। आज जो दिल्ली में अभिमान दिख रहा है, जनता कब उसे उल्टा कर दे पता नहीं। विपक्ष की किसी भी नापाक चाल को कामयाब नहीं होने दिया जाएगा। बीजेपी इस बात का कतई  फैसला नहीं कर सकती कि, हमारे घर में क्या चल रहा है।

इस दौरान पूर्व उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट (Former Deputy Chief Minister Sachin Pilot) ने कहा कि, आज मैं सदन में आया तो मैनें पाया कि, मेरी सीट पीछे रखी गई है। मैं आखिरी लाइन में बैठा हूं। मैं राजस्थान की उस सरजमीं से आता हूँ, जो पाकिस्तान बॉर्डर (Pakistan border) से लगती है। सीमा पर सबसे मजबूत सैनिक तैनात रहता है। मैं जब तक यहां बैठा हूं, सरकार सुरक्षित है।

विश्वासमत प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया (Leader of Opposition Gulab Chand Kataria) ने भी राजस्थान सरकार को घेरने की कोशिश की। साथ ही फोन टैपिंग (Phone tapping issue) के मुद्दे पर अशोक गहलोत सरकार को कटघरे में खड़ा किया। और आखिर में  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के अगुवाई में राजस्थान सरकार ने राज्य विधानसभा में विश्वास मत जीता।

विश्वास मत जीतने के बाद सचिन पायलट ने कहा- आज सदन के अंदर विश्वास मत को बहुमत से पारित किया गया जो अटकलें लगाई जा रही थीं उन्हें विराम मिला है। पहले मैं सरकार का हिस्सा था आज नहीं हूं लेकिन यहां पर कौन कहां बैठता है ये महत्वपूर्ण नहीं है लोगों के दिल और दिमाग में क्या है ये ज्यादा महत्वपूर्ण है। जीवन की आखिरी सांस तक मैं इस प्रदेश के लिए समर्पित हूं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More